आज मैं आपको इस आर्टिकल में इंटरनेट की पूरी जानकारी देने वाला हूँ, Internet kya hai ? इसकी शुरुआत कब और कैसे हुई और इसका मालिक कौन है

India में 50 करोड़ से भी ज्यादा internet users है यानी दुनिया मे दूसरा सबसे ज्यादा internet इस्तेमाल किये जाने वाला देश, हमारे देश की बोहोत बड़ी आबादी Internet का इस्तेमाल कर रही है लेकिन इंटरनेट की शुरुआत कैसे हुई, ये बोहोत ही कम लोगो को पता है।

इंटरनेट आज हमारी जरूरत का हिस्सा बन चुका है, जितना जरूरी हमारे लिए बिजली और पानी है आज उतना ही जरूरी इंटरनेट भी हो चुका है, आज इंटरनेट के बिना कोई अपना एक पल नही गुजार सकता है।

Internet Kya Hai Hindi

प्राइवेट सेक्टर हो या Government सेक्टर सभी जगह पर Internet का इस्तेमाल किया जाता है और अब तो  हमें रेलवे Platform पर भी Free Internet  दिया जा रहा है और सरकार भी India को Digital India बनाने पर जोर दे रही है।

इसीलिए आज मैं आपको What is internet in hindi यानी Internet क्या है और कैसे काम करता है इसकी शुरुआत कैसे हुई और इंटरनेट हमारे देश मे कैसे और कब आया ये सभी कुछ बताने वाला हूँ जिसे पढ़ कर आपको इंटरनेट के बारे में ऐसी बाते पता चलेगी जो शायद पहले आपको पता नही थी।

इंटरनेट क्या है – What is Internet in Hindi

internet का मतलब Network of Computers है इसे आसान लफ्जो में कहे तो दो या दो से ज्यादा जुड़े हुए Computers के network को internet कहते है, इसे नेटवर्क का महाजाल भी कह सकते है, Internet के माध्यम से आप पूरी दुनिया मे अनगिनत Computers को एक साथ जोड़ सकते है।

यही कारण है की आज आप घर बैठे अपने mobile और Computer से दुनिया भर की खबरों से जुड़े रहते है, जब Internet नही था तब ये दुनिया सोचने में बोहोत बड़ी लगती थी लेकिन अब जब आप internet की मदद से दुनिया के किसी भी कोने में कुछ ही सेकंड में संपर्क कर सकते है तो अब ये दुनिया छोटी लगने लगी है।

इंटरनेट क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर पर आधारित होता है जो लोग इंटरनेट का उपयोग करते है क्लाइंट कहलाते है और यह डाटा हम सर्वर से लेते है इसलिए यह क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर पर आधारित है।

इंटरनेट एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक data का आदान-प्रदान करने का तरीका अगर आप बोहोत सारे कंप्यूटर को एक wire से कनेक्ट करके डेटा ट्रांसफर करेंगे तो वो भी एक तरह का इंटरनेट ही कहलाएगा।

इंटरनेट सभी कम्प्यूटर्स को प्रोटोकॉल के जरिये जोड़े रखता है और इंटरनेट में जो भी डाटा उपलब्ध होता है वह किसी सर्वर पर स्टोर होता है जिसे हम कभी भी एक्सेस कर पाते है और हम जिन उपकरणों के माध्यम से इंटरनेट का उपयोग कर पाते है उन्हें ISP (Internet Service Providers) कहते है जैसे की Jio, BSNL इत्यादि।

यहाँ डाटा किसी भी तरह का हो सकता है Audio, Video इनके अलावा और भी दूसरी Files भी होती है जो इंटरनेट के द्वारा आदान प्रदान की जाती है और हमेशा सर्वर पर स्टोर रहती है। ताकि कोई भी व्यक्ति उन्हें आसानी से एक्सेस कर पाए।

इंटरनेट का फुल फॉर्म

इंटरनेट को हिंदी में अंतरजाल कहते है परन्तु इंटरनेट का फुलफॉर्म “interconnected network” होता है जो अपने आप में एक बहुत बड़ा सर्वर होता है और यह अंतर्राष्ट्रीय होता है इसे WWW द्वारा दर्शाया जाता है जिसका मतलब World Wide Web होता है और इसे नार्मल भाषा में वेब सर्वर कहते है

इंटरनेट की परिभाषा

इंटरनेट एक अन्तर्राट्रीय एरिया नेटवर्क है जो की दुनियाभर में उपस्तिथ सभी कम्प्यूटर्स को एक साथ केबल लाइन्स से जोड़कर रखता है यह जितनी भी Lines होती है यह सभी इंटरनेट को सही तरह से चलने में मदद करती है या ऐसा कह सकते है की यही इंटरनेट की रीढ़ की हड्डी होती है क्योंकि इसके बिना इंटरनेट का अस्तित्व मुश्किल है।

इसके अलावा इंटरनेट के अलग अलग Hubs होते है जिनसे यह बैंडविथ लाइन्स जोड़ी जाती है जिससे की जो डाटा है वह अलग अलग लोकेशन के हिसाब से साझा किया जा सके । अब इन Hubs से इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स को जोड़ा जाता है जिससे की यह इंटरनेट एक यूजर के पास आता है और वह यूजर इंटरनेट का उपयोग कर पाता है।

यदि कोई व्यक्ति इंटरनेट का उपयोग करना चाहता है तो उसे इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स की जरूरत होती है जिससे की वह इंटरनेट का एक्सेस ले सके। कुछ लोग यहाँ इंटरनेट का उपयोग करने के लिए ब्रॉडबैंड का उपयोग करते है और कुछ लोग Mobiles Sim का उपयोग करते है परन्तु यहाँ दोनों का इंटरनेट एक्सेस करने का प्रोसेस अलग अलग होता है।

यदि कोई व्यक्ति ब्रॉडबैंड का उपयोग करता है तब आपको इंटरनेट एक्सेस के लिए Cable या फिर Fiber Cable का उपयोग करना पड़ता है जिसके माध्यम से इंटरनेट आपके कंप्यूटर तक पहुँचता है। परन्तु जो व्यक्ति Sim का उपयोग करते है इंटरनेट का उपयोग करने के लिए, तब नेटवर्क Towers से wireless तरीके से इंटरनेट का उपयोग किया जाता है।

Internet का मालिक कौन है

अक्सर लोगो के मन मे ये सवाल आता है कि हम इतने पैसे खर्च करके जो जिस इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे है उसका मालिक कौन है। कई लोगो को ऐसा भी लगता है कि Airtel, Jio, Idea या फिर BSNL ये सब जो है इंटरनेट के मालिक है इसीलिए हमे इन्हें पैसे देने पड़ते है इंटरनेट इस्तेमाल करने के लिए लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नही है।

जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया है कि इंटरनेट बोहोत सारे कंप्यूटर के जुड़े हुए नेटवर्क को बोलते है ऐसे में कोई एक व्यक्ति इंटरनेट का मालिक हो ही नही सकता। अगर सीधे सब्दो में बोला जाए तो Internet का मालिक कोई भी नही है। और हमारे ISP (Airtel, Jio, BSNL आदि) हमसे पैसे इंटरनेट के नही हमतक इंटरनेट पोहचाने के लिए लेती है।

अगर थोड़ी और detail में बात की जाए तो ISP को तीन श्रेणींयो में बांटा गया है, टियर 1, टियर 2 और टियर 3.

Tier 1

Tier 1 की श्रेणी में वो आते है जिन्होंने समुन्द्र में fiber optic cable बिछा रखे है एक देश से दूसरे देशों तक पूरी दुनिया मे अपने cables बिछा रखे है। आप submarinecablemap.com पर जाके देख सकते है कि टियर 1 companies के केबल पूरी दुनिया मे कहा कहा बिछे है।

Tier 2

Tier 2 में वो आते जो टियर 1 ISP से इंटरनेट लेते है और हमतक पोहचाते है जैसे Idea और Airtel अगर Jio की बात की जाए तो Jio ने खुद से समुद्र में optic fiber cable बिछा रखे है और यही कारण है Jio सबसे सस्ते में हमको इंटरनेट देता है क्योंकि इसे टियर 1 companies को पैसा नही देना पड़ता।

Tier 3

Tier 3 में वो होते है जो टियर 2 से इंटरनेट लेते है और उसे अपने Local Area में Cable, DSL, Fiber या Wireless तरीके से इंटरनेट प्रोवाइड करते है।

तो ऐसे में Tier 1 companies का सबसे बड़ा रोल होता है हमतक इंटरनेट पहचाने में और Tier 1 कंपनी Tier 2 से पैसे इस लिए लेती है क्योंकि उन्होंने अपने पैसे invest करके पूरी दुनिया मे cable बिछाए है और समय समय पर उन cables को रिपेयर और रिप्लेस भी करना पड़ता है इसीलिए टियर 1 कंपनी पैसे लेती न और इन सब मे इंटरनेट बिल्कुल फ्री है बस इंटरनेट हम तक पोहचाने के लिए हमसे पैसे लिए जाते है।

और इससे आपको समझ आ गया होगा कि इंटरनेट का मालिक कोई भी नही है और इसे एक और example से समझाऊ तो मान लीजिये Internet समुन्द्र का बहता हुआ पानी है और टियर 1,2,3 कंपनी हमतक वो पानी पोहचाने का काम कर रही है और वो जो हमसे पैसे ले रही है हमतक पानी पोहचाने के पैसे ले रही है ना कि उस पानी का।

इंटरनेट के प्रकार

यहाँ बहुत ही कम लोगो के इंटरनेट के प्रकार के बारे में पता होगा तो यहाँ में आपको बता दू इंटरनेट के प्रकार भी होते है और अलग अलग तरह की स्पीड को प्राप्त करने के लिए अलग अलग प्रकार के इंटरनेट का उपयोग करते है जिससे की सुविधा ठीक तरह से मिल सके। इंटरनेट के प्रकार कुछ इस तरह से है –

  • Dail Up Connection
  • DSL Connection 
  • Cable Connection
  • Fiber Connection
  • Wireless Connection
  • Satallite Connection
  • Cellular Connection

Dail Up Connection

पहले के समय में अपने Landlines के माध्यम से इंटरनेट को एक्सेस किया होगा आज भी कुछ लोग इस तरह के इंटरनेट कनेक्शन का उपयोग करते है यह एक नार्मल सा इंटरनेट कनेक्शन होता है इसमें एक टेलीफोन लाइन की मदद से इंटरनेट का एक्सेस दिया जाता है जो की अलग अलग यूजर द्वारा इंटरनेट के लिए इस्तेमाल में ली जाती है और जहा से मुख्य

लाइन आती है वह लाइन एक कंप्यूटर से जुडी होती है जिसमे इंटरनेट का कनेक्शन होता है जिससे की सभी लाइन्स से जुड़े कंप्यूटर में इंटरनेट का एक्सेस मिल पाए।

इसमें यह लाइन्स Routers  की मदद से जुडी होती है और Routers की मदद से हमारे कंप्यूटर में जुडी होती है तब जाकर हमें इंटरनेट का एक्सेस मिल पाता है।

इस तरह के इंटरनेट के प्रकार में इंटरनेट बहुत ही सस्ता होता है और रही बात आपके इंटरनेट स्पीड की तो वह बहुत ही कमजोर स्पीड देखने को मिलती है जिससे की इंटरनेट को उपयोग करने में परेशानिया देखने को मिलती है साथ ही यह हमेशा कनेक्शन में नहीं होता है कभी कभी इंटरनेट का एक्सेस ख़त्म भी हो जाता है।

DSL Connection

DSL कनेक्शन का फुल फॉर्म Digital Subscriber Line Connection होता है। इस तरह के इंटरनेट कनेक्शन में आपको कभी इंटरनेट बंद होने की असुविधा का सामना नहीं करना पड़ता है इस तरह के कनेक्शन में एक टेलीफोन कॉपर लाइन होती है जो की डाटा का ट्रांसमिशन का कार्य करती है इस तरह के कनेक्शन में किसी भी तरह का Dail Up सेटअप नहीं करना होता है।

इसमें इंटरनेट को कनेक्ट करने के लिए राउटर की मदद ली जाती है राउटर में कॉपर लाइन जुडी होती है और इन लाइन्स की मदद से इंटरनेट कनेक्ट होता है और इसमें आपको स्पीड की समस्या भी बहुत ही कम देखने को मिलती है।

इसके अलावा इस सर्विस में आप किस सर्विस का भुगतान करते है उस सर्विस प्लान पर भी आपके इंटरनेट कनेक्शन की स्पीड निर्भर करती है जिससे की आप अपने हिसाब से अपनी स्पीड और डाटा की रेंज को बड़ा सकते है।

Cable  Connection

इस तरह के इंटरनेट में आपको काफी अच्छी स्पीड देखने को मिलती है यहाँ पर इस इंटरनेट को उपयोग करने के लिए आपको टीवी Cable lines का उपयोग करना पड़ता है यहाँ पर डाउनलोड और अपलोड की स्पीड फ़ास्ट होने के कारन डाटा जल्दी ट्रांसमिट किया जाता है इस तरह के इंटरनेट की स्पीड 20 MBPS देखने को मिल जाती है

Fiber Internet Connection

इस तरह के इंटरनेट कनेक्शन में आपको बहुत ही फ़ास्ट स्पीड देखने को मिल जाती है इस तरह के इंटरनेट में फाइबर केबल का इस्तेमाल किया जाता है फाइबर एक कांच का वायर होता है जिसके अंदर सिग्नल का आदान प्रदान होता है और यह सिग्नल काफी फ़ास्ट गति से डाटा को ट्रांसमिट करने का काम है

और इस तरह के इंटरनेट की एक केबल जो की फाइबर की होती है राउटर में कनेक्ट की जाती है और राउटर फिर कम्प्यूटर से कनेक्ट किया जाता है जिससे की इंटरनेट का एक्सेस कर पाए और इसमें आपको अलग अलग प्लान्स के हिसाब से 1GBPS तक की स्पीड देखने को मिलती है।

Wireless Connection

इस तरह के इंटरनेट में किसी भी तरह के वायर का उपयोग नहीं किया जाता है बल्कि इस तरह का इंटरनेट उपयोग करने के लिए रेडियो तरंगो का उपयोग किया जाता है  रेडियो तरंगो के माध्यम से इस तरह के इंटरनेट में सिग्नल का ट्रांसमिट किया जाता है।

Satallite Connection

इस तरह के कनेक्शन में सारा काम एक Satallite के माध्यम से होता जैसा की आपको पता ही होगा सेटेलाइट आसमान में ऊपर लगाया जाता है जहा पृथ्वी का वायुमंडल भी नहीं होता है कोई सिग्नल पृथ्वी से जाता है पहले सेटेलाईट में उसके बाद वह वापस नीचे आता है इसमें टाइम काफी लगता है जिससे इसमें स्पीड बहुत ही काम मिलती है यहाँ पर आपको 2 से 3MBPS की ही स्पीड देखने को मिलती है

Cellular Connection

इस तरह के इंटरनेट का उपयोग मोबाइल फ़ोन के लिए किया जाता है पहले मोबाइल के इंटरनेट इतना विकसित न होने के कारण इसमें स्पीड बहुत काम देखने को मिलती थी पहले 1G तक स्पीड मिलती थी उसके बाद सेकंड जनरेशन आया जिसकी स्पीड थोड़ी पहले वाले सेलुलर इंटरनेट से ज्यादा हुआ करती थी और उसके बाद 3G इंटरनेट आया इसमें थोड़ी और स्पीड को बढ़ाया गया आज हम 4G इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे है और धीरे धीरे हम 5G की तरफ जा रहे है और 4G इंटरनेट की स्पीड 20MBPS तक देखने को मिलती है आने वाले समय में 5G इंटरनेट में हमें और ज्यादा स्पीड देखने को मिलेगी जो की सेलुलर इंटरनेट में विकासशील प्रणाली है।

दुनिया में इंटरनेट का इसिहास

इंटरनेट के इसिहास की अगर बात की जाए तो इंटरनेट की शुरुवात 60 के दशक में हो चूका था पहली बार छोटे स्तर पर  इंटरनेट का इस्तेमाल 1969 में किया गया था जैसे जैसे तकनिकी का विकास होता गया वैसे वैसे इंटरनेट और ज्यादा विकसित किया गया।

शुरुवात में इंटरनेट का पहला नाम Arpanet था जिसका Full Form  Advanced Research Projects Agency Network था। 1969 में यह एक अमरीकी रक्षा विभाग का हिस्सा था। Arpanet के द्वारा शुरुवात में गुप्त तरीके से सन्देश भेजने के लिए इस तरह की तकनिकी का इस्तेमाल किया गया था जिसे Arpanet कहा गया था। बाद में इस नेटवर्क का उपयोग एक साथ पांच कम्प्यूटर्स को जोड़ने के लिए किया गया था ताकि वह सभी कम्प्यूटर्स एक साथ अपने डाटा को भेज सके।

उसके बाद इसे दुनिया में अलग अलग जगह के कम्प्यूटर्स को जोड़कर डाटा का आदान प्रदान किया गया परन्तु उस समय यह प्राइवेट नेटवर्क की तरह काम करता था बाद में इसे पब्लिक कर दिया गया।

भारत में इंटरनेट की शुरुवात

भारत में पहली बार इंटरनेट की शुरुवात 15 अगस्त 1995 में की गई थी उस समय इंटरनेट नया था इसलिए हर कोई व्यक्ति इसके उपयोग से दूर हुआ करता था भारत में इंटरनेट VSNL  द्वारा शुरू किया गया था जिसका पूरा नाम Videsh Sanchar Nigam Limited (VSNL) है यह भारत की  Telecommunications एक  संस्था है।

शुरुवाती दिनों में बड़े बड़े शहरो में इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध करवाई गई उसके बाद धीरे धीरे छोटे छोटे शहरो में  इसे लाया गया और अगर आज की बात करि जाए तो आअज लगभग हर जगह इंटरनेट उपलब्ध हो पता है

भारत का सबसे पहला साइबर कैफे 1996 में मुंबई के लीला होटल में  खोला गया था और इसी समय भारत में rediffmail की शुरुवात की गई थी और आज सबसे प्रचलित वेबसाइट naukri.com भी भारत में 1997 में स्टार्ट की गई थी इसके अलावा यहाँ webduniya yahoo और msn की शुरुवात भी भारत में 2001 में की गई थी इसके बाद रेल टिकट के लिए irctc.com की वेबसाइट को भारत में 2001 में शुरू किया गया था तो इस समय भारत में इंटरनेट पहली बार देखने को मिला था। और आज के समय  में इंटरनेट घर घर में पहुंच गया है

इंटरनेट के कार्य

वैसे दोस्तों अगर इंटरनेट के कार्यो के बारे में बात की जाए तो आज लगभग बहुत सारे काम इंटरनेट के माध्यम से किये जाते है परन्तु यहाँ आपको मैं कुछ इंटरनेट के कार्यो के बारे में बताने जा रहा हु जो की इंटरनेट के कारण हमारा बहुत सारा काम आसान बना दिए है तो चलिए अब इंटरनेट के कार्य के बारे में जान लेते है

  • इंटरनेट की मदद से हम किसी भी व्यक्ति को कोई भी फाइल भेज सकते है और समय भी बहुत कम लगता है।
  • इंटरनेट की मदद से हम ईमेल भेज सकते है।
  • किसी भी चीज़ के बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त करने के लिए हम इंटरनेट का उपयोग कर सकते है ।
  • किसी भी जरुरी फाइल को अपलोड करके सेव कर सकते है जिससे व हमेशा हमारे पास रहती है .
  • यदि आप गेम खेलने में रूचि रखते है तब आप इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन गेम खेल सकते है।
  • आज कल इंटरनेट का उपयोग शादी करने के लिए रिश्तो को ढूंढने में भी किया जाता है।
  • न्यूज़ और किसी भी भाषा के समाचार को पढ़ने के लिए भी इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है ।
  • यदि आप कोई सामान खरीदना चाहते है तब आप इसका इस्तेमाल करके कोई भी सामान खरीद सकते है।
  • किसी भी कंपनी में जॉब के लिए अप्लाई करने से पहले आप इंटरनेट की मदद से उस कंपनी के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है।
  • वैसे तो दोस्तों मेने यहाँ आपको कुछ नार्मल तरह के कार्यो के बारे में ही बताया है इसके अलावा इंटरनेट से बहुत सारे कार्यो को किया जाता है।

इंटरनेट के फायदे

आज इंटरनेट का उपयोग हर काम को करने के लिए करते है और इंटरनेट ने हमारे काम को बहुत हद तक आसान बनाया है ऐसे में इसके हमारी जीवन शैली में बहुत से लाभ हुए है हम निचे एक एक लाभ के बारे में डिटेल से बात करेंगे तो चलिए इंटरनेट के लाभ के बारे में जान लेते है।

Online bill और  Recharge कर सकते है

इंटरनेट से आप अपने घर बैठे बिजली का बिल जमा कर सकते है या आप paytm जैसे app की मदद से बोहोत ही आसानी से किसी का भी TV या Mobile recharge कर सकते है।

घर बैठे जानकारी हासिल कर सकते है

Google और Youtube जैसे search engines के द्वारा आप इंटरनेट से आप घर बैठे किसी भी तरह की जानकारी हासिल कर सकते है और नई-नई चीज़ों के बारे में सिख के अपना ज्ञान बढ़ा सकते है।

Online Shopping कर सकते है

आज से कुछ साल पहले तक जब इंटरनेट का इस्तेमाल बोहोत कम किया जाता था तब आपको कुछ भी खरीदने के लिए market जाना पड़ता और अपनी पसंद को चीज़ को कई सारे दुकानों में ढूंढना पड़ता। लेकिन अब आप घर बैठे ही अपने पसंद की चीज़ों को इंटरनेट पर देखकर उसे खरीद सकते है।

मनोरंजन कर सकते है

मनोरंजन करने के लिए इंटरनेट पर हजारों विकल्प है जिनसे आप अपना मनोरंजन कर सकते है, अगर आप वीडियो देखने के शौकीन है तो आप Youtube पर Comedy वीडियो देखकर मनोरंजन कर सकते है।

इसके अलावा आप Tik Tok जैसे platform पर देखकर या अपनी वीडियो अपलोड कर सकते है इसके अलावा आप movies downlaod करके देख सकते है या गाना डाउनलोड करके भी आ अपने phone में save कर सकते है।

लेन-देन कर सकते है

आज से कुछ साल पहले तक इंटरनेट के माध्यम से किसी भी तरह का लेन-देन करने में हर कोई बचने की कोशिश करता थे लेकिन जैसे-जैसे लोगो को पता चला कि ये बिल्कुल safe होता है और ये इतना आसान होता है तब से ऑनलाइन इंटरनेट के सहारे लेन-देन काफी होने लगी है।

इसके लिए आपके पास सिर्फ एक मोबाइल होना चाहिए और आप घर बैठे अपने bank account से किसी दूसरे के bank account में आसानी से मनी ट्रांसफर कर सकते है।

Research कर सकते है

इंटरनेट एक बोहोत बड़ा source है जहाँ से आप किसी भी तरह की रिसर्च कर सकते है, यहा पर आपको Audio, Video, pdf और text format में आपको हर तरह की जानकारी मिल जाएगी।

अपनो से  जुड़े रह सकते है

इंटरनेट की सबसे खास बात है कि आप अपने परिवार या अपने दोस्तो से कितने भी दूर क्यों न हो आप इंटरनेट के सहारे उनसे कुछ ही सेकंड में वीडियो कॉल कर सकते है और इसके अलावा आप Facebook, Instagram और Whatsapp के द्वारा भी अपनी Family और Friends से जुड़े रह सकते है।

दोस्तों यहाँ मेने आपको कुछ बेसिक इंटरनेट के लाभों के बारे में बताया है इसके अलावा और भी बहुत सारे इंटरनेट से किये जाने वाले कार्य है।

इंटरनेट के नुकसान

ऊपर अभी हमने इंटरनेट के फायदों के बारे में जान लिया है यहाँ इंटरनेट के बहुत से नुकसान भी है जो की हम थोड़ा विस्तार से जानेगे और यदि आप भी इंटरनेट का उपयोग करते है तब थोड़े सावधान हो जाये।

  • सबसे बड़ी बात यह है की इंटरनेट पर सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा समय बिताने वाले बहुत से लोग है और उन्हें लत सी लग चुकी है तो यह भी एक इंटरनेट से हानि ही है इसलिए इसकी लत न होने दे।
  • इंटरनेट के माद्यम से बहुत सारे हैकर्स आपका डाटा भी चुरा सकते है यहाँ आपको अपने आप की प्राइवेसी को लीक होने बचाना चाहिए यह भी इंटरनेट का एक दोष है।
  • इंटरनेट पर अश्लील चीज़े देखने की लत भी इंटरनेट से बहुत बड़ा नुकसान है बहुत से व्यक्ति इसके आदि हो जाते है फिर बाद में पछताते है।
  • इंटरनेट पर अगर एक बार किसी भी तरह की गलत जानकारी शेयर कर दी जाए तो वह बहुत तेजी से वाइरल होती है और इस गलत जानकारी पर बहुत से व्यक्ति विश्वास कर लेते है।
  • ऑनलाइन साइट्स पर अपनी फोटो को शेयर करते है जिससे की कोई भी व्यक्ति उसे एडिट करके आपको ब्लैकमेल कर लेता है यह भी इंटरनेट की हानि मानी जाती है।
  • इंटरनेट जब से आया है तब से बहुत से लोग ऑनलाइन स्कैम करते है वह आपकी डिटेल्स को उपयोग करके आपके पैसे तक आपके खाते में से गायब कर देते है।

इंटरनेट आज घर घर में पहुंच जाने के कारण बच्चे कुछ ऐसी साइट्स को ओपन कर लेते है जो उनके लिए ठीक नहीं है यदि आपको याद हो तो Bluewhale नाम का एक Game आया था तब बहुत सारे बच्चो ने अपनी जान तक गवा दी थी। इस तरह के और भी बहुत से ऐसे कार्य है जो इंटरनेट के माध्यम से हमें बहुत ज्यादा हानि पंहुचा सकते है।

दोस्तो मेरे हिसाब से आपको यह समझ आगया होगा की कोई भी चीज़ हो उसके नुकसान और फायदे दोनों ही होते है ऐसे में यदि आप किसी भी चीज़ की अति करते है तो वह आपके लिए नुकसान ही करेगा।

अंतिम शब्द

मुझे उम्मीद है कि आपको इंटरनेट क्या है – What is Internet in Hindi से जुड़ी सारी जानकारी मिल गयी होंगी। इस आर्टिकल में आपको मैंने Internet की परिभाषा, इंटरनेट के उपयोग और इसके फायदे और नुकसान इन सभी के बारे में पूरी जानकारी दी है।

अगर आपको ये जानकारी पसंद आई है तो इसे शेयर जरूर करे और अगर आपका इससे जुड़ा कोई सवाल है तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते है हम आपकी सहायता करने की पूरी कोशिश करेंगे।

आपका स्वागत है Indiakabest.in पर, मेरा नाम है Shehzad Ansari और मैं इस website का founder हूँ। यहा आपको हर रोज Internet और Android से जुड़ी नई-नई जानकारियां मिलती रहेगी. अगर आप भी एक Android user है तो हमारे ब्लॉग को follow जरूर करे। आप Google पर IndiaKaBest search करके हमारे ब्लॉग पर आ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here